पातंजल योग दर्शन

पातंजल योग दर्शन

Free

Description

इस नोट्स के अंतर्गत महर्षि पतंजलि ने योग के मूल रूप को समझाया है, चित्त की वृत्तियां व उसके निरोध के उपाय, क्रिया योग, अष्टांग योग, समाधि, संयम जनित विभूतियों के आधार पर आज विभूतियों का वर्णन इस नोट्स में किया है,, साथ में महर्षि पतंजलि द्वारा पंच क्लेश, चित् विक्षेप और योग अंतरायों से मुक्ति का उपाय भी बताया गया है।

Customers' review

5 stars 0 0 %
4 stars 0 0 %
3 stars 0 0 %
2 stars 0 0 %
1 star 0 0 %

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “पातंजल योग दर्शन”