मानव चेतना एवं भारतीय दर्शन

मानव चेतना एवं भारतीय दर्शन

0.00

इस नोटस् के अंतर्गत मानव चेतना एवं भारतीय दर्शनों का वर्णन किया गया है,, इस नोट्स में वेदों, उपनिषदों, षड्दर्शनों आदि में चेतना के स्वरूप का वर्णन किया गया है, इसके साथ में विभिन्न धर्मों में चेतना का स्वरूप क्या है,इसका वर्णन किया गया है, संस्कार पुनर्जन्म, भाग्य और पुरुषार्थ की भी सरल व्याख्या की गई है। इस नोट्स में दर्शन का अर्थ, भारतीय दर्शन जो कि मुख्यतः नौ है, जिसमें से छह आस्तिक और तीन नास्तिक है, उन सभी दर्शनों का यहां वर्णन किया गया है। जिसमे न्याय दर्शन, वैशेषिक दर्शन, सांख्य दर्शन, योगदर्शन, पूर्व मीमांसा एवं वेदांत दर्शन जो कि सभी आस्तिक दर्शन है।

Customers' review

5 stars 0 0 %
4 stars 0 0 %
3 stars 0 0 %
2 stars 0 0 %
1 star 0 0 %

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “मानव चेतना एवं भारतीय दर्शन”