हठयोग के सिद्धांत

हठयोग के सिद्धांत

0.00

Description

इस नोट्स के अंतर्गत हठयोग का अर्थ-परिभाषा-उद्देश्य-महत्व, सप्तसाधन,हठसिद्धि के लक्षण, अभ्यास के लिए उचित समय एवं आहार – विहार के बारे में बताया गया है। इस नोट्स में हठ प्रदीपिका के अनुसार षट्कर्म, घेरंड संहिता के अनुसार षट्कर्म को विस्तार से बताया गया है। अंत में प्राणायाम-आसन की परिभाषा- उद्देश्य-महत्व को दर्शाते हुए मुद्रा,नाड़ी, चक्र, कुंडलिनी की परिभाषा, कुंडलिनी जागरण के उपाय बताए गए हैं।

Customers' review

5 stars 0 0 %
4 stars 0 0 %
3 stars 0 0 %
2 stars 0 0 %
1 star 0 0 %

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “हठयोग के सिद्धांत”